फ्री में वेबसाईट बनाएं

गुरुवार, 3 फ़रवरी 2011

चाँद से प्यारी हो मुस्कान आपकी .........





चाँद से प्यारी हो मुस्कान आपकी,



तारो से ऊँची हो उडान आपकी



हमें भी आपसे मिलने के लिए अपाइंट मेंट लेना पड़े



रब करे ऐसी हो पहचान आपकी .

1 टिप्पणी:

Mrs. Asha Joglekar ने कहा…

क्या बात है इतनी और ऐसी दुआ लगता है काफी गहरे पैठे हैं ।