फ्री में वेबसाईट बनाएं

बुधवार, 18 जुलाई 2012

काका के जाने से पाकिस्तानियों की पलकें नम और भी...

राजेश खन्ना की शख्सियत सरहदों से परे थी और उनके इस दुनिया से चले जाने के बाद पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान में यह बात साबित भी हुई. यहां लोगों ने हिंदी सिनेमा में रोमांस के इस बादशाह के इंतकाल पर गम का इजहार किया.
पूर्व पाकिस्तानी प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी ने खन्ना के निधन पर जारी अपने शोक संदेश में कहा, ‘राजेश खन्ना एक महान कलाकार थे, जिनका फिल्म और कला के क्षेत्र में योगदान को हमेशा याद किया जाएगा.’ अशरफ ने कहा, ‘राजेश खन्ना की सीमा के पार भी बड़ी संख्या में चाहने वाले थे. लोग उनकी बेहतरीन अदाकारी को बेहद पसंद करते थे.’
यहां के समाचार चैनलों ने भी खन्ना के निधन से जुड़ी खबरें दिखाईं. खन्ना का मुंबई में निधन हो गया. पाकिस्तान के प्रमुख समाचार चैनल ‘जियो न्यूज’ ने खन्ना को श्रद्धांजलि देते हुए करीब एक घंटे का कार्यक्रम प्रसारित किया.
गायक और अभिनेता अली जफर ने टिव्टर पर लिखा, ‘राजेश खन्ना अलविदा. उनकी फिल्मों और गीतों से कई यादें जुड़ी हैं.’ यहां के मशहूर अभिनेता सैयद नूर ने कहा, ‘राजेश खन्ना इस उपमहाद्वीप के इतने बड़े कलाकार थे कि उन्हें लोगों आने वाले कई वर्षों याद रखेंगे.’
अभिनेत्री मीरा ने ट्विटर पर कहा, ‘राजेश खन्ना एक बड़ी शख्सियत थे. यह फिल्म उद्योग के लिए बड़ा नुकसान है.’ पाकिस्तानी मोहम्मद हनीफ और बड़ी संख्या में माइक्रो-ब्लॉगिंग और सोशल नेटवर्किंग वेसाइट के जरिए राजेश खन्ना को याद किया. एक पाकिस्तानी लेखक ने कहा, ‘हिंदी सिनेमा का पहला गाना मुझे ‘ये शाम मस्तानी’ याद हुआ था. यह राजेश खन्ना की फिल्म से था.’